दीपक की लौ

कैसे मना लूँ ये दिवाली ,
मेरे घर लगा है ,दीपक का मेला ,
तो उस घर है ,आँशुओ का बसेरा ,

निभा दिया उसने अपना हर वादा  ,
अपनी आखरी साँस तक सरहद पर लड़ा ,
सांसे उखड़ रही थी ,आँखे बंद हुई जा रही थी ,
जूनून था बस दुश्मन से हर न मानना,

आया इस दिवाली वो अपने घर ,तिरंगे मे लिपटकर ,
बस वो चुप था ,चेहरे पर वही तेज़ था ,
माँ अब अपना ख़ुद से ख्याल रखना  ,
हर दिवाली पर ,पूरा घर हमेशा की तरह रोशन करना ,
माँ मे रहुगा हमेशा तेरे पास ,दीपक की इस लौ मे जलकर …

8 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 10/05/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 10/05/2017
  3. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 10/05/2017
  4. arun kumar jha arun kumar jha 10/05/2017
  5. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 10/05/2017
  6. Kajalsoni 11/05/2017
  7. babucm babucm 11/05/2017

Leave a Reply