अपनापन

बाबा का दुलार और माँ का आँगन हो
बहन के साथ खेलते यॅू ही बचपन हो
यादों में न कभी सिमटे ये प्‍यार हमारा 
हर रोज मिले हंसी से वही अपनापन हो
________ __अभिषेक शर्मा अभि

7 Comments

  1. mani mani 01/11/2016
  2. riyazsheikh Riyaz Tanveer Sheikh 01/11/2016
  3. riyazsheikh riyazsheikh 01/11/2016
  4. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 02/11/2016
  5. babucm babucm 02/11/2016
  6. Markand Dave Markand Dave 02/11/2016
  7. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 02/11/2016

Leave a Reply