भगवान कर डाला – शिशिर मधुकर

मेरे अपनों ने मेरे संग ये कैसा काम कर डाला
मुझे रूसवा ज़माने भर में सरे शाम कर डाला

मुझे मालूम ना था मेरे घर में कई सर्प पलते है
उन्हे मौका मिला ज्यों ही मुझे तमाम कर डाला

लाख शक्ति थी रावण में राम से बैर करने की
विभीषण ने मगर हार का इन्तजाम कर डाला

ज़माना भर यहाँ करता है श्री राम का गुणगान
मगर सिय ने ही तो उनको भगवान कर डाला

मिटकर भी जो करती है पति के मान की रक्षा
उन देवियों ने सतियों में अपना नाम कर डाला

शिशिर मधुकर

16 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 01/11/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir 01/11/2016
  2. C.M. Sharma babucm 01/11/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir 01/11/2016
      • C.M. Sharma babucm 02/11/2016
    • C.M. Sharma babucm 01/11/2016
  3. mani mani 01/11/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir 01/11/2016
  4. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 01/11/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/11/2016
  5. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 02/11/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/11/2016
  6. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 02/11/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/11/2016
  7. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 02/11/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/11/2016

Leave a Reply