घर घर दीप जलाए हैं – शिशिर मधुकर

मेरे देश के सैनिक वीरॉ मेरा नमन स्वीकार करो
दुश्मन चैन नहीँ पाए तुम ऐसा प्रबल प्रहार करो
जिन लालों ने सीमाओं पर अपने प्राण लुटायें हैं
उनकी यादों में हम सबने घर घर दीप जलाये हैं

शिशिर मधुकर

8 Comments

  1. babucm babucm 30/10/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 31/10/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 31/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir 31/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 31/10/2016
  4. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 02/11/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/11/2016

Leave a Reply