सूनापन

कौन सी यह नयी भावना, मन में पाँव पसारे रे |
अनकही सी अनछुई सी, जग क्या इसको पुकारे रे |
मन का कोई कांच टूटा, आँखें सुनामी लाये रे |
कैसा सूनापन नया ये, कोई ज़रा बतलाये रे |
एकाकीपन सबको सताता, थे बहुत किस्से सुने |
हमने तो वीराने में भी, तेरे ही बस सपने चुने |
याद तो अब भी है दिल में, इसमें मगर वो बात नहीं |
चाँद में भी दाग दिखते, जब तू मेरे साथ नहीं |

8 Comments

  1. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 28/10/2016
    • विवेक गुप्ता 02/11/2016
  2. C.M. Sharma babucm 28/10/2016
    • विवेक गुप्ता 02/11/2016
  3. Kajalsoni 28/10/2016
    • विवेक गुप्ता 02/11/2016
    • विवेक गुप्ता 02/11/2016

Leave a Reply