किस्मत और भाग्य

सिर्फ किस्मत पर यकीं नहीं है हमको,
अपने कर्म पर ज्यादा यकीन हम रखते हैं,
किस्मत का क्या भरोसा है,
कब हमको दगा वो दे जाए
अपनों का भरोसा नहीं यहाँ पर,
वक्त बेवक्त धोखा दे जाते हैं,
फिर किस्मत के भरोसे क्या रहना,
पल पल में बदल जाया करती है,
हम तो यहाँ मेहनत के दम पर,
किस्मत को बनाया करते हैं
सर आँखों पर नहीं हम,
अपने हाथों पर इसको रखते हैं,
अपने अच्छे कर्मो से हम,
स्वयं खुद के शहंशाह बनते हैं।।
By:Dr Swati Gupta

18 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 27/10/2016
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 28/10/2016
  2. sarvajit singh sarvajit singh 27/10/2016
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 28/10/2016
  3. mani mani 27/10/2016
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 28/10/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/10/2016
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 28/10/2016
  5. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 27/10/2016
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 28/10/2016
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 28/10/2016
  6. Kajalsoni 27/10/2016
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 28/10/2016
  7. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 27/10/2016
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 28/10/2016
  8. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 28/10/2016
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 28/10/2016

Leave a Reply