फसाद की जड़—मुक्तक—डी के निवातियाँ

जिन्हें लगता मजहब फसाद की जड़, वो मजहब से रूबरू होकर देख ले ।
क्या लिखा गीता, कुरआन, बाइबिल, गुरुग्रंथ साहिब को पढ़कर देख ले ।
अमन-ओं-चैन के लफ्जो से सजी हरएक धर्म की नायाब पाक अमानते ।
फिर भी हो गर किसी को कोई शक,वो मेरे साहित्य समूह आकर देख ले ।।



डी के निवातिया-_____@

22 Comments

  1. mani mani 28/10/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/11/2016
  2. C.M. Sharma babucm 28/10/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/11/2016
  3. Manjusha Manjusha 28/10/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/11/2016
  4. sarvajit singh sarvajit singh 28/10/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/11/2016
  5. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 28/10/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/11/2016
  6. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 28/10/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/11/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/11/2016
  7. Kajalsoni 29/10/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/11/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/11/2016
  8. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 29/10/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/11/2016
  9. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 29/10/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/11/2016

Leave a Reply