छोटी-सी-जगह (डॉ. विवेक कुमार)

छोटा-सा
एक रास्ता
जो जाता
तुम्हारे दिल तक
और लौटता
मेरे दिल से होकर l
चाहता हूँ –
इस रास्ते के सहारे पहुँचूँ
तुम्हारे दिल के किसी कोने तक
जहाँ बना सकूँ
मैं एक छोटी जगह।
क्योंकि इस महानगरीय
जीवन में सब कुछ है बिकाऊ
रिश्ते-नाते
दोस्त-मित्र
हँसी-मुस्कान ।
किंतु –
मैं बनाना चाहता हूँ
अपनी अलग पहचान।
अटूट रिश्ते-नाते
दोस्ती का संबंध
जिसमें हो
प्यार की भीनी-भीनी गंध।

डॉ. विवेक कुमार
तेली पाड़ा मार्ग, दुमका-814 101
(c) सर्वाधिकार सुरक्षित।

30 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 26/10/2016
  2. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 26/10/2016
  3. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 26/10/2016
  4. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 26/10/2016
  5. C.M. Sharma babucm 26/10/2016
  6. sarvajit singh sarvajit singh 26/10/2016
  7. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 26/10/2016
  8. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 26/10/2016
  9. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 26/10/2016
  10. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/10/2016
  11. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 27/10/2016
  12. mani mani 27/10/2016
  13. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 27/10/2016
  14. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 27/10/2016
  15. Kajalsoni 27/10/2016
  16. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 27/10/2016
  17. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 28/10/2016
  18. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 28/10/2016
  19. Dr.Anand Anand 28/10/2016
  20. RAJAN JAISWAL 28/10/2016
  21. RAJAN JAISWAL 28/10/2016
  22. Rajan kumar 28/10/2016
  23. Awadhesh kumar 28/10/2016
  24. poonamshree 29/10/2016
  25. poonamshree 29/10/2016
  26. poonamshree 31/10/2016
  27. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 31/10/2016
  28. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 31/10/2016
  29. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 31/10/2016

Leave a Reply