महल और मचान – शिशिर मधुकर

जिन्दगी तूने मुझे ये कैसी अजब पहचान दी
चोर सारे मिल गए शमशीरे मुझ पर तान दी

जो बना मुझसे वो मैं सबके लिए करता रहा
मैंने माँगा तो सभी ने मुझे दुखों की खान दी

हसरतें बहुत थी मगर समय से ना लड़ सका
इच्छाए सारी मर गई हाथों में जब कमान दी

अपनों को मैंने हरदम पूजा में शामिल किया
पर किसी ने ना कभी भी मेरे लिए अजान दी

जिन्दगी तुझसे अब मुझको कोई गिला नहीँ
कुछ सोच कर तूने यहाँ महल और मचान दी

शिशिर मधुकर

19 Comments

  1. Rajeev Gupta RAJEEV GUPTA 25/10/2016
  2. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 25/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/10/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 25/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/10/2016
  4. C.M. Sharma babucm 25/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/10/2016
  5. sarvajit singh sarvajit singh 26/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/10/2016
  6. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 26/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/10/2016
  7. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 26/10/2016
  8. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/10/2016
  9. Kajalsoni 27/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/10/2016
  10. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 28/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/10/2016

Leave a Reply