बेज़ुबां की जुबां

मैं बेज़ुबां हूँ, लेकिन बेजान तो नहीं हूँ

एहसास हो न जिसमें, वो सामान तो नहीं हूँ

माना कि नस्ल से मैं इंसान तो नहीं हूँ

इंसान की तरह ना-फरमान तो नहीं हूँ

कुदरत ने मुझ को तेरा, जब दोस्त था बनाया

ये क्या किया कि तुमने इसको नहीं निभाया

क्यों दोस्ती ये तोडी, मुझ को किया पराया

क्यों दर्द जाँ-कशी का तुझको न दीख पाया

मैं बेज़ुबां हूँ, कैसे इसको बयां करूँ मैं

तू हो गया है कातिल, कैसे जिया करूँ मैं

तुम मेरी खैरियत का फरमान कब बनोगे

इंसान की शकल में इंसान कब बनोगे

तूने मुझे बुलाया, दौड़ा चला मैं आया

तुमसे किया मोहब्बत, मैंने भी प्यार पाया

मैं मानता हूँ तुमने खिलाया, पिलाया

नहलाया, धुलाया, फिर पीठ सहलाया

ये बेशकीमती था जो प्यार मैंने पाया

मैंने भी अपना सब कुछ तुझ को किया लुटाया

औलाद का चुरा कर के दूध सत्त वाला

तुझ को पिला पिला कर औलाद जैसे पाला

फिर जाने कैसी कैसी इससे बनी मिठाई

तुम सबने चाय कॉफी की चुस्कियां भी पाई

खाद दिया है, दिया गोबर का गैस है

फिर पंचगव्य दिया जो तरबियत से लैस है

उपले दिए, मरकर के अपना चाम भी दिया है

हल, रहट, गाड़ियों में जुत काम भी किया है

जाड़े से बचने को तुझे ऊन दे दिया है

अंडों में भरकर के अपना खून दे दिया है

तूने जो गन्दगी की, उसे साफ़ किया है

बदले में तूने कैसा इन्साफ किया है

ये कुछ न दिखा तुझे, केवल मांस दिखा मेरा

क्यों नहीं ये घुटता हुआ सांस दिखा मेरा

जो चीख मेरी सुन ले वो कान कब बनोगे

इंसान की शकल में इंसान कब बनोगे

कितने ही अनाजों से दुनिया अटी पडी है

फल सब्जियों के जायकों से पटी पडी है

खाना यही माकूल है इंसान के लिए

ये पेट नहीं बना कब्रिस्तान के लिए

दुनिया के साइंस-दां और हकीम बोलते हैं

ये मांस-मुर्ग तन बदन में ज़हर घोलते हैं

बीमार करते हैं ये, होते हजम नहीं

कुदरत ने बनाया तुझे यूँ बेरहम नहीं

खुदगर्ज़ हो गया तू , न खुदा से भी डरा

तेरी जुबां के जायके से बेज़ुबां मरा

जिस खुदा ने तुझे, उसी ने मुझको बनाया

मज़हब की मार्फत भी रहमत ही सिखाया

 

ये किस खुदा के वास्ते तू हुआ बे-ईमाँ

नदियाँ बहा के खून का, हो रहा शादमां

ये काम है गुनाह का, सबाब का नहीं

ज़न्नत तो क्या दोज़ख भी मिलेगी तुझे नहीं

दुनिया के मजहबों का ईमान कब बनोगे

इंसान की शकल में इंसान कब बनोगे

18 Comments

  1. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 27/10/2016
    • शेखर वत्स शेखर वत्स 27/10/2016
    • शेखर वत्स शेखर वत्स 28/10/2016
    • शेखर वत्स शेखर वत्स 28/10/2016
  2. mani mani 27/10/2016
    • शेखर वत्स शेखर वत्स 28/10/2016
  3. Kajalsoni 27/10/2016
    • शेखर वत्स शेखर वत्स 28/10/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/10/2016
    • शेखर वत्स शेखर वत्स 28/10/2016
  5. babucm babucm 27/10/2016
    • शेखर वत्स शेखर वत्स 28/10/2016
      • babucm babucm 28/10/2016
  6. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 27/10/2016
    • शेखर वत्स शेखर वत्स 28/10/2016
  7. rajdipindia1982 rajdipindia1982 28/10/2016
    • शेखर वत्स शेखर वत्स 29/10/2016

Leave a Reply