खुशियों के दीप जलायेंगे।

कसम खाओ अब इंडियावालो,
खुशियों के दीप जलायेंगे,
चीन माल का बहिष्कार करके,
उनको ठेंगा दिखलायेंगे,
हमारी दीपावली अच्छी हो,
इसके लिए लोग मिट्टी के दिए बना रहे,
हमारी खुशियों की खातिर,
वो अपना पसीना बहा रहे,
आओ हम सब मिलकर,
उनकी भी ख़ुशी बढ़ायेंगे,
उनसे ये सामान खरीदकर,
उनकी भी दीवाली उत्तम बनाएंगे,
देश के हर कोने कोने में हम,
आशा का दीप जलायेंगे,
अपने देश की परंपरा का मान,
फिर से आज बढ़ायेंगे,
कसम खाओ अब इंडियावालों,
खुशियों के दीप जलायेंगे।।
By:Dr Swati Gupta

5 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/10/2016
  2. mani mani 23/10/2016
  3. babucm babucm 23/10/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/10/2016

Leave a Reply