३५. श्री राम प्रभु के चरणों में ………….|भजन| “मनोज कुमार”

ram-500x500

श्री राम प्रभु के चरणों में गुणगान मैं करने आया हूँ
प्रभु की भक्ति करने को मैं गीत उन्हीं के गाया हूँ

श्री राम प्रभु………………………………………….के गाया हूँ

सुबह शाम में प्रभु तेरा तेरा वंदन करता हूँ
लंका विजयी श्री राम के चरणों में मैं शीश झुकाता हूँ
राम नाम की महिमा का प्रसार मैं करने आया हूँ

श्री राम प्रभु………………………………………….के गाया हूँ

है अन्तर्यामी सबके स्वामी नैय्या पार लगा देना
बिगड़ रहे जो सबके काज उनको पूरन कर देना
अब आश तुम्हीं से है रघुवर मैं अर्जी लगाने आया हूँ

श्री राम प्रभु………………………………………….के गाया हूँ

है जगदाता है भागविधाता सबको गले लगा लेना
है सियापति श्रीराम तुम हमको छाया में अपनी रखना
है धनुधारी तुमसे है विनती पास तुम्हारे आया हूँ


श्री राम प्रभु………………………………………….के गाया हूँ

श्रीराम मेरे तुम घर आओ “मनोज” पे कृपा कर जाना
हम बेर तुम्हें फिर ला देंगे नही दूर कभी फिर तुम जाना
कर दो तुम निर्मल मन मेरा दीदार में करने आया हूँ

श्री राम प्रभु………………………………………….के गाया हूँ

“मनोज कुमार”

10 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 22/10/2016
    • MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 23/10/2016
  2. mani mani 22/10/2016
    • MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 23/10/2016
    • MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 23/10/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/10/2016
  4. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 23/10/2016
  5. Kajalsoni 24/10/2016
    • MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 28/10/2016

Leave a Reply