दर्द में भी मुस्कुराना चाहिए

दर्द में भी मुस्कुराना चाहिए
ज़ब्त को यूँ आज़माना चाहिए
वो बहुत पछता रहा है भूल पर
अब हमें भी मान जाना चाहिए
ख़ुद बयां हो जायेगा चेह्रे का सच
आइने के पास जाना चाहिए
ग़ैर कोई ज़ख़्म देता है तो दे
आपको मरहम लगाना चाहिए
जो कहानी नफ़रतों को दे जनम
वो कहानी भूल जाना चाहिए
-सौरभ

2 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 22/10/2016

Leave a Reply