कहें कहना है जो संसार वाले

कहें कहना है जो संसार वाले
कहाँ डरते हैं आख़िर प्यार वाले
मुहब्बत फिर तेरा लहराया परचम
पराजित फिर हुए तलवार वाले
हमारे साथ होंगे कल यही सब
अभी नाराज़ हैं परिवार वाले
हमें पहुँचाएँगे मंज़िल पे इक दिन
यही जो रास्ते हैं ख़ारवाले
ज़रा बाहर निकल कर देखिए तो
खड़े हैं द्वार पर उपहार वाले
-सौरभ

2 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 22/10/2016

Leave a Reply