जाँ निसार हो गया – शिशिर मधुकर

जैसे तूने हाथ थामा मुझे खुद से प्यार हों गया
दुनियाँ सारी जल गई जब तू मेरा यार हो गया

प्यार का बारूद मेरे सीने में कब से दफन था
तेरे लबों ने इसको छूआ रोशन संसार हो गया

मुद्दतों तक मैं यहाँ तन्हा इंसान सा मशहूर था
तेरे संग मैं हँसने हँसाने वालों में शुमार हो गया

मैंने कभी सोचा ना था मावस को चाँद आएगा
कुदरत के करम से पर मुझे तॆरा दीदार हो गया

आखिर कोई तो बात है तेरे तिल ए रुखसार में
यूँ ही नहीँ मधुकर उसी पर जाँ निसार हो गया

शिशिर मधुकर

24 Comments

  1. babucm babucm 21/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/10/2016
  2. Savita Verma 21/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/10/2016
  3. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 21/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/10/2016
  4. mani mani 21/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/10/2016
      • babucm babucm 21/10/2016
        • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/10/2016
  5. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 21/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir 21/10/2016
  6. davendra87 davendra87 21/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir 21/10/2016
  7. Manjusha Manjusha 21/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir 21/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/10/2016
  8. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 22/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/10/2016
  9. विवेक गुप्ता 27/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/10/2016
  10. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 28/10/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 31/10/2016

Leave a Reply