दिवानी

अब तो मौत भी मेरी इस कदर
दिवानी हो गई हैं,
जिसके आबरु को ढकने के लिए
कफ़न लिए चलता हूँ।।।।।

Leave a Reply