जब से मैंने तुम्हें निहारा

जब से  मैंने तुम्हें निहारा

तुझमें मुझमें रहा ना अंतर

 

                        तुझे  प्रतीक्षा रहती  मेरी

                        मैं उलटी साँसें गिनता हूँ

                        बाट  जोहता रहता है तू

                        मैं गिरता चलता रहता हूँ

 

                       

            पद रखने की आहट पाकर

                        सपनों की दुनिया के अंदर

                        मैं  तेरे  अंदर जग जाता

                        तू  जग  जाता मेरे अंदर

 

 

जब से  मैंने तुम्हें निहारा

तुझमें मुझमें रहा ना अंतर

 

                        तुम हो कल्पित साथी मन के

                        मेरे   एकाकी   जीवन   के

                        मैं  भी  बंदी  बनकर  तेरा

                        जीता हूँ  हर पल जीवन के

 

                        करता है  तू  बस मुझसे ही

                        जन्म-मरण के  प्रश्न  चिरंतर

                        मैं आँसू के कण गिन गिनकर

                        सोचा करता मैं क्या दूँ उत्तर

 

जब से  मैंने तुम्हें निहारा

तुझमें मुझमें रहा ना अंतर

 

                        मुखरित है हर सिन्धु लहर में

                        युग युग की  है  तेरी  वाणी

                        मैं  बोलूँ  या  लिखना चाहूँ

                        बनता  वह  नयनों का पानी

 

                       

            छिपना है तो छिप जा मुझमें

                        मेरे  तन मन उर के अंदर

                        तू ही तो  कहता था मुझसे

                        छिप न सकेंगे उर के क्रंदन

 

जब से  मैंने तुम्हें निहारा

तुझमें मुझमें रहा ना अंतर

 

                        रंगबिरंगी रत्न जड़ित-सा

                        है  श्रंगार अनोखा  तेरा

            मेरे दुख सब रत्न बने है

                        आँसू है  मोती सा  मेरा

 

                        तू मूरत पत्थर की बनकर

                        शोभित करता अपना मंदिर

                        मेरी काया  घेर  रखे  हैं

                        मेरे  पथ के  सारे  पत्थर

 

 

जब से  मैंने तुम्हें निहारा

तुझमें मुझमें रहा ना अंतर

 

                       

                        सकल विश्व है तेरा अनुपम

                        सुन्दरता सब  तुझसे ही है

                        पर विष  जो तेरे कंठ धरा

                        मधुरस-सा वह मुझमें भी है

                       

                        तू बैठा  निश्चिंत  अकेला

                        सबके बाहर, सबके अंदर

                        मैं बैठा सुनसान डगर पर

                        सोचूँ  क्या है  मेरे अंदर

 

जब से  मैंने तुम्हें निहारा

तुझमें मुझमें रहा ना अंतर            

                 …. भूपेन्द्र कुमार दवे 

                           00000

11 Comments

  1. davendra87 davendra87 16/10/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 16/10/2016
  3. mani mani 16/10/2016
  4. C.M. Sharma babucm 16/10/2016
  5. Markand Dave Markand Dave 16/10/2016
    • bhupendradave 16/10/2016
  6. bhupendradave 16/10/2016
  7. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 16/10/2016
  8. ALKA ALKA 16/10/2016
  9. Kajalsoni 17/10/2016
  10. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 17/10/2016

Leave a Reply