“प्रकृति-4”

रेतीले धोरों पर ओस की बूँदें
श्वेत मोतियों की चादर सी लगती है ।

मलयानिल के झोंकों से झुकी धान की बालियाँ
नृत्य करती अप्सराओं समान लगती हैं ।

शरद ऋतु में धवल अलंकारों से सजी प्रकृति
माँ सरस्वती सी महान लगती है ।

XXXXX

“मीना भारद्वाज”

8 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 15/10/2016
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 15/10/2016
  2. mani mani 15/10/2016
  3. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 15/10/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 16/10/2016
  5. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 16/10/2016
  6. ALKA ALKA 16/10/2016
  7. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 16/10/2016

Leave a Reply