गज़ल – बी पी शर्मा बिन्दु

चराग इक आप भी जलाओ, तो कोई बात बने
आग दिल में न लगाओ, तो कोई बात बने।
हम तो उजालों में भी ,उजालों की बात करते है
भ्रम के नींद से उन्हें ,जगाओ तो कोई बात बने।
अफसोस की तंहा, कोई भी कुछ नहीं कर सकता
विश्वास उनके दिल को ,दिलोओ तो कोई बात बने।
मेहफूज कुछ भी नहीं, अब जिधर देखना है देखिये
चमत्कार कुछ आप भी, दिखाओ तो कोई बात बने।
यूॅ तो फरेबों के चक्कर में ,डूबे बहुत हैं इस तरह
राह अब कोई उनको ,दिखाओ तो कोई बात बने।
प्यार के दो मीठे शब्द ही ,अमृत की धारा होगी
प्यासे को पानी आप, पिलाओ तो कोई बात बने।

 

Writer             Bindeshwar Prasad Sharma (Bindu)

D/O Birth      10.10.1963

Shivpuri jamuni chack Barh RS Patna (Bihar)

Pin Code       803214
Mobile No.   9661065930

3 Comments

  1. mani mani 28/09/2016
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 28/09/2016
  3. Ashish Awasthi Ashish Awasthi 01/05/2017

Leave a Reply