सकारात्मक दोहे.

स्वाति के दोहे..??
1-कर्म गर तुम श्रेष्ठ करोगे, फल भी श्रेष्ठ तुम पाओगे।
भाग्य भरोसे रहे अगर तुम, हाथ मलते रह जाओगे।।

2-बीते कल को बिसार कर,आगे की तू सोच।
अतीत के दुःख में रहा गर,भविष्य की भी दुर्गति होय।।

3- काँटे राह में बोओगे, तो फूल कहाँ से पाओगे।
दुःख किसी को दिया है गर,सुख तुम भी न पाओगे।।

4- हौसला बुलन्द हैं गर,मंजिल को पा जाओगे।
हिम्मत तुम हार गए तो, जीत कभी न पाओगे।।

5- फूलों की चाह अगर है,तो काँटे भी संग में पाओगे।
दुख के काँटे झेल गए,तो जीवन को फिर मेहकाओगे।।
By: Dr Swati Gupta

5 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/09/2016
  2. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 28/09/2016
  3. Markand Dave Markand Dave 28/09/2016
  4. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 28/09/2016

Leave a Reply