उन्हें भुलाकर जिया तो क्या जिया

उन्हें भुलाकर जिया तो क्या जिया, दम है तो उनकी यादों में जीकर दिखा
मरने वाले तो अक्सर चेहरों पर मर जाया करते है ,
इश्क़ है अगर तेरा सच्चा{ २ }
तो बिना चेहरे के करके दिखा, उन्हें भुलाकर जिया——-
उनकी बातो में एक नशा सा था , जिसे सुनकर हमे प्यार आ गया ,
यूँही नहीं मरते हर किसी पर हम ,बस एक उन्ही पर इजहार आ गया ,
किये तो थे बहुत वादें उनसे{२}
अगर सच्चा है तूँ , तो उन वादों को निभाकर दिखा, उन्हें भुलाकर जिया——-
कुछ पल उनके साथ बिताये , तो कुछ उन्हें महसूस करके बितायँगे ,
मेरी चाहत में नहीं थी कमी कही, ये उन्हें एहसास कराके दिखायेगे ,
दिल है अगर तेरा सच्चा{२}
तो उन्हें तेरी धड़कन सुना के दिखा ,उन्हें भुलाकर जिया——-
पत्थर नहीं है वो इंसान ही है, जो तुझसे रूठ जायंगे,
करके तेरी चाहत को नजरअंदाज, वो जायगे भी तो कहा जायँगे ,
इश्क़ है अगर तुझे उनसे {२}
तो फिर उनका बनकर दिखा,
उन्हें भुलाकर जिया तो क्या जिया, दम है तो उनकी यादों में जीकर दिखा
मरने वाले तो अक्सर चेहरों पर मर जाया करते है ,
इश्क़ है अगर तेरा सच्चा{ २ }
तो बिना चेहरे के करके दिखा

3 Comments

  1. Markand Dave Markand Dave 28/09/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/09/2016

Leave a Reply