गिलहरी

गिलहरी दिन भर आती-जाती

फटे-पुराने कपड़े लत्ते

धागे और ताश के पत्ते

सुतली, कागज, रुई, मोंमियाँ

अगड़म-बगड़म लाती।

गिलहरी दिनभर आती-जाती।।

ठीक रसोईघर के पीछे

शीशे की खिड़की के नीचे

`एस्किमो’ सा गोल-गोल घर

चुन-चुन खूब बनाती।

गिलहरी दिनभर आती-जाती।।

दो बच्चे हैं छोटे-छोटे

ठीक अँगूठे जिनते मोटे

बड़े प्यार से उन दोनों को

अपना दूध पिलाती।

गिलहरी दिनभर आती-जाती।।

खिड़की पर जब कौआ आता

बच्चे खाने को ललचाता

पूँछ उठाकर चिक्-चिक्-चिक्-चिक्

करके उसे डराती।

गिलहरी दिनभर आती-जाती।।

भोली-भाली बहुत लजीली

छोटी-सी प्यारी शरमीली

देर तलक शीशे से चिपकी

बच्चों से बतलाती।

गिलहरी दिनभर आती-जाती।।

Leave a Reply