हिंदी स्वर वर्णमाला (बाल कविता)

‘अ’ से अमरूद ‘आ’ से आम
रघुपति राघव राजा राम।।
करते जाना अच्छे काम
इक दिन होगा तेरा नाम।।

‘इ’ से इमारत ‘ई’ से ईख
देख छिपकली निकली चीख।
अच्छी बातें जाओ सीख
याद रखो सब दिन तारीख।।

‘उ’ से उजाला ‘ऊ’ से ऊन
गरमी माह मई औ जून।
तपती धरती तपता खून।
ठंडक मिले देहरादून।।

‘ऐ’ से ऐनक ‘ए’ से एक
पढ़ लिख कर बन जाओ नेक।
गुरु चरणों में माथा टेक
बढ़ जायेगा बुद्धि-विवेक।

‘ओ’ से ओखल ‘औ’ से और
दूध भात का मीठा कौर।
सुबह शाम खाने का दौर
घर आँगन हम सबका ठौर।।

‘अः’ को छोड़ो ‘अं’ से अंग
नाचो गाओ मेरे संग।
सीखो नित तुम अच्छे ढंग
कमजोरों को करो न तंग।

(चौपई छंद)
!!!
!!!
सुरेन्द्र नाथ सिंह ‘कुशक्षत्रप’

10 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 27/09/2016
    • सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 27/09/2016
  2. mani mani 27/09/2016
    • सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 27/09/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/09/2016
    • सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 27/09/2016
    • सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 27/09/2016
  4. Kajalsoni 27/09/2016
  5. C.M. Sharma babucm 27/09/2016
    • सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 27/09/2016