“शहर के लोग”

‘’ शहर के लोग ‘’ मिलें, तो बताना
चारो तरफ घिरा है अंधेरा,
बस एक लौ के खातिर कोई दीपक जलाना
दीपक प्रकाश और देख चकाचौंध भरी उजाला
यही शहर है, इधर मत आना
‘’ शहर के लोग ‘’ मिलें, तो बताना
शहर में लोग हैं, पर लोग शहर के नहीं
मतलबी, जालसाजी फिर मककारी,
ये है इनकी फितरत भरी कलाकारी
चाहे जहॉं भी जाये, प्रोइवेट या सरकारी
फिर आलिशान बंगला देखो या घर- तहखाना
‘’ शहर के लोग ‘’ मिलें, तो बताना
मैंने जानना चाहा,पुछ उन सबसे
सबने यही कहा, शहर में हो कबसे ?
छोड़ो अपनी रूसवाई, यही है जमाना
यहॉं लोग शहर के है, जिसे फुर्सत कहॉं
तरीका कुछ भी हो,
ये हैं जानते सिर्फ व सिर्फ दौलत कमाना
‘’ शहर के लोग ‘’ मिलें, तो कोई हमें भी बताना
– हमें भी बताना
चारो तरफ घिरा है अंधेरा,
बस एक लौ के खातिर कोई दीपक जलाना
दीपक प्रकाश और देख चकाचौंध भरी उजाला
यही शहर है, इधर मत आना
‘’ शहर के लोग ‘’ मिलें, तो बताना
*** ***

7 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 26/09/2016
  2. mani mani 26/09/2016
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 26/09/2016
  4. Ashok Mishra 26/09/2016
  5. अकिंत कुमार तिवारी 26/09/2016
  6. Kajalsoni 26/09/2016
  7. babucm babucm 26/09/2016

Leave a Reply