आतंक का मंजर “मुक्तक”

********************************************************
सरहदों के  उस पार  आतंक का  बडा मंजर है
कर दोस्‍ती  पीठ पर  मारता ये  रोज खंजर है
कैसे समझौता करें इस दोगले पाकिस्तान से
आतंकवाद का ये  बारूद इसकी भूमि बंजर है
अभिषेक शर्मा अभि
********************************************************

 

 pak

39 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/09/2016
  2. आनन्द कुमार ANAND KUMAR 24/09/2016
  3. Ashok Mishra 24/09/2016
  4. babucm babucm 24/09/2016
  5. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 24/09/2016
  6. पवन कुमार सिंह 25/09/2016
  7. शीतलेश थुल शीतलेश थुल 25/09/2016
  8. Kajalsoni 25/09/2016
  9. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 26/09/2016
  10. आदित्‍य 26/09/2016
  11. अकिंत कुमार तिवारी 26/09/2016
  12. विनोद चन्द्र वर्मा विनोद चन्द्र वर्मा 26/09/2016
  13. विनोद चन्द्र वर्मा विनोद चन्द्र वर्मा 26/09/2016
  14. gopi kishan gopi kishan 26/09/2016
  15. gopi kishan gopi kishan 26/09/2016
  16. अकिंत कुमार तिवारी 26/09/2016
  17. Dr Chhote Lal Singh Dr C L Singh 27/09/2016
  18. Markand Dave Markand Dave 24/10/2016

Leave a Reply