तू चल…Tanveer Ghazi

तू खुद की खोज में निकल।
तू किसलिये हताश है, तू चल ,
तेरे वजूद की समय को भी तलाश है।

जो तुझसे लिपटीं बेड़ियाँ, समझ ना इनको वस्त्र तू ,
ये बेड़ियाँ पिघाल के, बना ले इनको शस्त्र तू ,

तू खुद की खोज में निकल।
तू किसलिये हताश है, तू चल ,
तेरे वजूद की समय को भी तलाश है।

चरित्र जब पवित्र है , तो क्यों है ये दशा तेरी ,
ये पापियों को हक़ नहीं , की ले परीक्षा तेरी ,

तू खुद की खोज में निकल।
तू किसलिये हताश है, तू चल ,
तेरे वजूद की समय को भी तलाश है।

जला के भस्म कर उसे, जो क्रूरता का जाल है ,
तू आरती की लौं नहीं , तू क्रोध का मशाल है ,

तू खुद की खोज में निकल।
तू किसलिये हताश है, तू चल ,
तेरे वजूद की समय को भी तलाश है।

चुनर उड़ा के ध्वज बना , गगन भी कॅपकॅपायेगा ,
अगर तेरी चुनर गिरी, एक भूकम्प आयेगा ,

तू खुद की खोज में निकल।
तू किसलिये हताश है, तू चल ,
तेरे वजूद की समय को भी तलाश है।

  1. Written By:- Tanveer Ghazi, 
  2. Featuring:-  Amitabh Bachchan
  3. Movie:- Pink(2016)

13 Comments

  1. शीतलेश थुल शीतलेश थुल 24/09/2016
  2. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 24/09/2016
    • शीतलेश थुल शीतलेश थुल 24/09/2016
    • शीतलेश थुल शीतलेश थुल 24/09/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/09/2016
    • शीतलेश थुल शीतलेश थुल 24/09/2016
    • शीतलेश थुल शीतलेश थुल 25/09/2016
  4. C.M. Sharma babucm 24/09/2016
    • शीतलेश थुल शीतलेश थुल 25/09/2016
  5. Kajalsoni 24/09/2016
    • शीतलेश थुल शीतलेश थुल 25/09/2016

Leave a Reply