जिन्दगी के पहलू

जिन्दगी के हर एक पहलू से
गुजरना पड़ता है ,
इन पहलुओं से वाकिफ़
नहीं होता इन्सान ,
पर इसकी हर एक छटा को
निहारना पड़ता है ।

न मानो तो किसी मंजिल पर
चलकर देखो
मंजिल तो आसान होती है ,
पर इसी पर चलकर ही
अपने कदमों की पहचान
होती है ।।
– आनन्द कुमार

15 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 24/09/2016
    • आनन्द कुमार आनन्द कुमार 24/09/2016
    • आनन्द कुमार ANAND KUMAR 24/09/2016
  2. आदित्‍य 24/09/2016
    • आनन्द कुमार ANAND KUMAR 24/09/2016
  3. शीतलेश थुल शीतलेश थुल 24/09/2016
    • आनन्द कुमार ANAND KUMAR 24/09/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/09/2016
    • आनन्द कुमार ANAND KUMAR 24/09/2016
  5. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/09/2016
  6. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 24/09/2016
  7. Kajalsoni 24/09/2016
  8. babucm babucm 24/09/2016
  9. आनन्द कुमार ANAND KUMAR 24/09/2016

Leave a Reply