मेरे पापा…स्वाति गुप्ता

माँ जब मैं बड़ी हो जाऊँगी,
और इस घर को छोड़ कर जाऊँगी,
पापा कैसे रह पायेंगे,
हर पल मेरी याद में वो,
छुप छुप के आँसू बहाएंगे,
तेरे सामने कुछ न बोलेंगे,
दर्द अपने दिल का न खोलेंगे,
पर जानती हूँ मैं अपने पापा को,
मेरे बिन वो बहुत तड़पेंगे।
माँ जब मैं बड़ी हो जाऊँगी,
और इस घर को छोड़कर जाऊँगी,
पापा कैसे रह पाएँगे।
माँ तुम उनको समझा देना,
उनकी हिम्मत तुम बड़ा देंना,
जब भी वो अकेले उदास खड़े हो,
तुम मेरी बात करा देना,
मैं दौड़ के चली आऊँगी,
अपने पापा के गले लग जाऊँगी।
माँ जब मैं बड़ी हो जाऊँगी,
और इस घर को छोड़कर जाऊँगी,
पापा कैसे रह पाएँगे।।
By : Dr Swati Gupta

12 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 22/09/2016
  2. Dharitri Dharitri 22/09/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 22/09/2016
  4. डॉ. विवेक Dr. Vivek Kumar 22/09/2016
  5. शीतलेश थुल शीतलेश थुल 22/09/2016
  6. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 22/09/2016
  7. Kajalsoni 22/09/2016
  8. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/09/2016
  9. babucm babucm 22/09/2016
  10. Markand Dave Markand Dave 23/09/2016

Leave a Reply