मजदूर

*****************************************************
जमाने का ये क्‍या दस्‍तूर है
रोता हमेशा भूखा मजबूर है!
हर पल बहाता है खून पसीना
रोटी के खातिर ही मजदूर है।
दुनिया की रौशनी से ये दूर है
मेहनत का ही इनको गुरूर है।
हँसीं खुशी रहता अपनो के बीच
दिलो में अपनो के ये मशहूर है।
अभिषेक शर्मा अभि
*****************************************************

14390806_944020035709310_3851367090340458_n

 

6 Comments

  1. Kajalsoni 18/09/2016
  2. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 18/09/2016
  3. C.M. Sharma babucm 19/09/2016
  4. शीतलेश थुल शीतलेश थुल 19/09/2016
  5. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 19/09/2016
  6. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 19/09/2016

Leave a Reply