मेघकृपा

जिन पर मेघों के नयन गिरे
वे सबके सब हो गए हरे ।

पतझड़ का सुन कर करुण रुदन
जिसने उतार दे दिए वसन
उस पर निकले किशोर किसलय
कलियाँ निकली निकला यौवन ।

जिन पर वसंत की पवन चली
वे सबकी सब खिल गईं कली ।

सह स्वयं ज्येष्ठ की तीव्र तपन
जिसने अपने छायाश्रित जन
के लिए बनाई मधुर मही
लख उसे भरे नभ के लोचन ।

लख जिन्हें गगन के नयन भरे
वे सबके सब हो गए हरे ।

Leave a Reply