सफ़र आसान हो जाए

गुमनाम राहो पर एक नयी पहचान हो जाए
चलो कुछ दूर साथ तो, सफ़र आसान हो जाए||

होड़ मची है मिटाने को इंसानियत के निशान
रुक जाओ इससे पहले, ज़हां शमशान हो जाए||

वक़्त है, थाम लो, रिश्तो की बागडोर आज
ऐसा ना हो कि कल, भाई मेहमान हो जाए||

इंसान हो इंसानियत के हक अदा कर दो
ऐसा ना हो ये जिंदगी, एक एहसान हो जाए ||

अपनी ही खातिर आज तक जीते चले आए
आओ चलो किसी और की, मुस्कान हो जाए ||

18 Comments

  1. mani mani 16/09/2016
  2. डॉ. विवेक Dr. Vivek Kumar 16/09/2016
    • shivdutt 16/09/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 16/09/2016
  4. C.M. Sharma babucm 16/09/2016
    • shiv dutt 16/09/2016
  5. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 16/09/2016
    • shiv dutt 16/09/2016
    • shiv dutt 16/09/2016
  6. Ankita Anshu Ankita Anshu 16/09/2016
    • shiv dutt 16/09/2016
  7. Kajalsoni 16/09/2016
    • shiv dutt 16/09/2016
  8. Meena Bhardwaj Meena bhardwaj 17/09/2016
    • shiv dutt 17/09/2016

Leave a Reply