निवेदन

विदा-विदा हे हरित तृणों की सुन्दर धरती ।
विदा-विदा हे मानव पशु की पूजित जननी
विदा हृदय के सुख चिर विदा प्राण-प्रिय यौवन ।

Leave a Reply