घर की याद-4

अब ये आँखें बाहर के सुख से
उदासीन अति होकर के
अपने ही दुख के सागर में
धीरे-धीरे हैं ढलक रहीं

अब इन्हें न बहला पाएगी
इस सारे जग की सुन्दरता
कोई भी रोक नहीं सकता
अब आँसू का झरना झरता

Leave a Reply