ईद-उल-जुहा

क्यों काटे जाते है बकरे ?
समझ नहीं आता ये कहानी l
क्योकि अल्लाह नहीं मांगता
किसी बेगुनाह की कुर्बानी ll


इन बेजुबानो में भी
अल्लाह का रूप समाता है l
बंद करो ये ज़ुल्मों सितम
क्यों तू ये पाप कमाता है ll


हे अल्लाह के बन्दे
ईद है भाईचारे का त्योहार l
सिखाता है हम सभी को करो
बेजुबानो से भी प्यार ll

————

3 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 13/09/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 14/09/2016

Leave a Reply