हिन्दी दिवस मनाए

 

 

img1473735706810
मैने उसे देखा हैं
और रोज देखता हूँ
मेरे शहर मैं
किंचित सी काया लिए
तार तार होती छाया लिए
नग्न बदन
घूमती रहती हैं
छिपती रहती हैं
उस टिटिहरी की तरह
जो हर समय
बहेलिए के निशाने पर हो
उसकी आँखो मैं
अश्रु
सूख चुके हैं शायद
सपने
टूट चुके हैं शायद
अपनी पलको पर
एक उम्र का बोझ लिए हुए
उसे मैने देखा हैं
और रोज देखता हूँ
मेरे शहर की
सड़को पर चलते हुए
आज उसे
हज़ार साल गुजर गए हैं
लेकिन लगता हैं
वह तब से चल रही हैं
जब
उस सड़क की जगह
एक छोटी सी
पगडंडी हुआ करती थी
तब वह
इतनी जर्जर ना थी
उसकी आँखो मैं
सुनहले सपने थे
उसके सिर पर
स्वाभिमान का ताज था
लेकिन आज
अपने शहर की
सड़के नापते देख
सोचता हूँ
की इस जर्जित काया को
घृणित व वहशी नज़रों से
देखने वाला व्यक्ति
क्या मेरे ही शहर का हैं
लेकिन एक दिन
कुछ सरकारी
नस्ल के लोगो ने
उस काया को
कुछ एक बनावटी
परिधान पहनाए
कुछ एक आभूषण
लाद दिए उस पर
मैं भौचक्का सा
देख रहा था
बदलती तस्वीर को
मालूम हुआ की
एक दिनी प्रदर्शनी मैं
उस की नुमाइश की जानी हैं
मेरे मन हुआ
की दौड़ कर जाऊ
ओर उतार के रख दू
उस बनावटीपन को
ओर जाहिर कर दू
उस जर्जरता को
जिसे मैने देखा था
अपने शहर के चौराहे पर
पर अफ़सोस
मेरे पहुचने तक
नुमाइश ख़त्म हो गए थी
और वो हाथ मैं रखे
अंग्रेजी में छपे
प्रशंशा पत्र पर से
कुछ पढ़ती  हुई
वापस आ रही थी
मेरे शहर की ओर
उसके बदन पर रह गये
कुछ रंग जो शायद
उसके घाव को छुपाने के लिए
उस पर पोते  गये थे
कुम्हला से गये थे
उसकी प्रतिमा पर
विदेशियत की कालीमा
ओर गहरा सी गयी थी
तुम उसे नही जानते शायद……
लेकिन मैने उसे देखा हैं
और रोज देखता हूं
मेरे शहर मैं
बिंदी बिंदी शून्य होती
हिन्दी को
देखा मैने पहले ही कहा था
तुम उसे नही जानते
क्योंकि तुम सिर्फ़
नुमाइश मैं रखी
प्रदीप्त काया को जानते हो
जर्जरता को नही
क्योकि तुम
एक “प्रोफेशनल इंडियन” हो
सभ्य भारतीय नही एक …….
सभ्य भारतीय नही
क्या ऐसा नहीं हो सकता
की हम उस देवी को
मस्तक से लगाए
ओर एक दिनी नही
अपितु
असंख्य …..
अन्गिनित …….
हिंदी दिवस मनाए ??

कपिल जैन

 

 

 

3 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 13/09/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 13/09/2016

Leave a Reply