कंकड़-पत्थर (कविता का अंश)

उठो-उठो ओ स्वदेश, ओ स्वदेश उठो-उठो ।
खुला कभी का प्रभात, खुली सभी और रात,
खेंचा रहा राह कर्म, यत्न करो उठो जुटो ।
छोटा जो आज पड़ा, होगा कल वही बड़ा,
क्या हे जग में असाध्य, साहस यदि क्षीण न हो ।
साहस के शब्द कहो, वीर देश उठो-उठो ।
लाती है कीर्ति नई, अर्जित कर शक्ति नई,
उठो-उठो ओ स्वदेश, ओ स्वदेश उठो-उठो ।

Leave a Reply