महंगाई के दोहे—दोहाकार : महावीर उत्तरांचली

महंगाई डायन डसे, निर्धन को दिन-रात
धनवानों की प्रियतमा, पल-पल करती घात //१//
महंगाई के राग से, बिगड़ गए सुरताल
सिर पर चढ़कर नाचती, झड़ते जाएँ बाल //२//
महंगी रोटी-दाल है, मुखिया तुझे सलाम
पूछे कौन ग़रीब को, इज्ज़त भी नीलाम //३//
आटा गीला हो गया, क्या खाओगे लाल
बहुत तेज इस दौर में, महंगाई की चाल //४//
आटा-चावल-दाल क्या, सत्तू तक है दूर
महंगाई के खेल में, हिम्मत चकनाचूर //५//
बच्चे बिलखें भूख से, पिता रहा है काँप
डसने को आतुर खड़ा, महंगाई का साँप //६//
महंगाई प्रतिपल बढे, कैसे हों हम तृप्त
कलयुग का अहसास है, भूख-प्यास में लिप्त //७//
महंगाई के प्रेत ने, किया लाल को मौन
मात-पिता हैरान हैं, उनको पूछे कौन //८//
गपशप में होने लगी, महंगाई की बात
वेतन ज्यों का त्यों रहा, दाम बढे दिन-रात //९//
महंगाई के दौर में, कटुता का अहसास
बदल दिया है भूख ने, वर्तमान इतिहास //१०//
सदियों से निर्धन यहाँ, होते रहे हलाल
धनवानों के हाथ में, इज़्ज़त रोटी-दाल //११//

8 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 11/09/2016
  2. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 11/09/2016
    • Mahavir Uttranchali MAHAVIR UTTRANCHALI 12/09/2016
  3. डॉ. विवेक Dr. Vivek Kumar 12/09/2016
    • Mahavir Uttranchali MAHAVIR UTTRANCHALI 12/09/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 12/09/2016
  5. Mahavir Uttranchali MAHAVIR UTTRANCHALI 12/09/2016
  6. C.M. Sharma babucm 12/09/2016

Leave a Reply