माँ (हाइकू)

♥ हायकू ♥

बड़ा हो गया
हुआ निर्मोही तेरा
मैं अपराधी

माँ को हमेशा
पसीजता ही देखा
है धेर्यवीर

आंसू ना गिरे
आंचल भर लेती
माँ ऐसी होती

थाम ना सके
जिस उगली थाम
चलना सीखें

माँ घटों रोती
पलभर बच्चो से
अकेले होती

ना मारो बेटी
तरस जाएगा माँ
सारा संसार

मैं कच्चा घड़ा
माँ ने हाथ फेर के
जिवित किया

माँ मैं बीज था
सींच दिया तुमने
प्यार दुलार

माँ शब्द नही
भरा पूरा संसार
एक ग्रथं है

माँ की मूहर्त
मन वचन काय
क्षमा सूरत

माँ का आंचल
आज भी लहराता
सुखद यादें

राहें ताकंती
करती इन्तजार
माँ की नजरें

मां का आशीष
महसुस करुं मे
है यही चाह

माता की कोख
नो मास तक सीचेें
जीवन डौर

मां एक दिव्य
आलोकिक प्रकाश
जीवनभर

माँ रोम रोम
होती है न्योछावर
संतान पर

माँ प्रदाता है
है जीवन दायिनि
नही अबला

माँ की ममता
आईने के समान
पारदर्शिता

दुख प्रसव
वेदना सहती माँ
असहनीय

सुख मातृत्व
पाकर वे हसंती
इठलाती भी

है इर्द गिर्द
ओजोन आक्सीजन
माँ की दुआएँ

माँ ही प्रकृति
प्रकृति ही प्रदाता
मां ही प्रदाता

मातृ जीवन
जीवन का पथ है
जीवन दिशा

(तांका)

माँ की ममता
नेह का सकंलन
अपार स्नेह
भावना का सृजन
प्रेम का मुलधन

कपिल जैन

9 Comments

  1. babucm babucm 13/09/2016
    • कपिल जैन कपिल जैन 13/09/2016
  2. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 13/09/2016
    • कपिल जैन कपिल जैन 13/09/2016
  3. शीतलेश थुल शीतलेश थुल 13/09/2016
    • कपिल जैन कपिल जैन 13/09/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 13/09/2016
  5. कपिल जैन कपिल जैन 13/09/2016

Leave a Reply