ताकि सुन पाऊँ ठीक से चुटकुला

छाती पर रात पहाड़ जैसी
और आटे में नमक जितनी
चुटकी भर नींद
गुंडी में पानी नहीं कटोरी भर भी

कोशिश कर रहा फिर भी
उस अपने को देखने की
जो वह देख रही
और सपने ही में कह रही
मैं भी देखूँ जिस हालत में
जहाँ हूँ वहीं से…

मैं चिल्ला रहा-
तुम भी वहीं से थोड़ी मदद करो
खींच लो परदा बादल का
जो पड़ा मेरी आँखों पर
और बोलो थोड़ी ऊँची आवाज़ में
ताकि सुन पाऊँ ठीक से चुटकुला
जिससे तुम टाँका लगाना चाह रही
मेरे वीरान हो चुके ज़ख़्म पर ।

Leave a Reply