मुक्तक

कोई कब तक प्यार करे, कोई कब तक प्यार में मरे

संभाल के रखो इश्क की चादर ना कोई आग में जले

पुकारता हूँ में उसे जीने-मरने की कश्मकश में

मुझे मालूम है फिर भी वह मेरे दिल में मरे

कवि: स्मित परमार

आणंद गुजरात

One Response

Leave a Reply