दिल से पुकारा है – शिशिर मधुकर

 

जब जब तुमने मुझको इस दिल से पुकारा हैं

अपने हाथों से मैंने तेरी बिगड़ी को सँवारा हैं
मैं तड़पा किया कितना भी तन्हाई में अकेले
मगर मुझसे मिलना ना अब तुझको गँवारा हैं

जीता किये तो समझे अच्छा समय हमारा हैं
भूलेगा नहीँ हमको ये जो साथी बढ़ा प्यारा हैं
पर कोई भी मिलन की सूरत तो नहीँ दिखती
पाने को तुम्हे अब यहाँ जन्म लेना दोबारा हैं

शिशिर मधुकर

 

17 Comments

  1. C.M. Sharma C.m sharma(babbu) 10/09/2016
  2. C.M. Sharma C.m sharma(babbu) 10/09/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 10/09/2016
      • C.M. Sharma C.m sharma(babbu) 10/09/2016
        • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/09/2016
  3. mani mani 10/09/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/09/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 10/09/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/09/2016
  5. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 10/09/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/09/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/09/2016
  6. Meena Bhardwaj Meena bhardwaj 11/09/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/09/2016
  7. Kajalsoni 12/09/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/09/2016

Leave a Reply to mani Cancel reply