जिन्दगी – शिशिर मधुकर

जिन्दगी अपने हँसी रंग तू दिखाती चल
नए नए चेहरों को मुझसे तू मिलाती चल

समय के साथ में मौसम तो यहाँ बदलेंगे
हर मौसम में मुझे जीना तू सिखाती चल

लाख चाहो मगर बुरे दौर भी तो आते हैं
हर खलिश को दिलो से तू मिटाती चल

उल्फ़त का नशा कभी लहू में कम ना हो
नए जामो के घूंट मुझको तू पिलाती चल

मधुकर को तुझसे अब कोई शिकवा नहीँ
बिछडो को तू बस यूही करीब लाती चल

शिशिर मधुकर

14 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 08/09/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/09/2016
  2. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 08/09/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/09/2016
  3. शीतलेश थुल शीतलेश थुल 08/09/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/09/2016
  4. anuj 08/09/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/09/2016
  5. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 08/09/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/09/2016
  6. Meena Bhardwaj Meena bhardwaj 08/09/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/09/2016
  7. vijay kumar Singh 08/09/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/09/2016

Leave a Reply