मेष-वृष तरनि तचाइन के त्रासन तें

मेष-वृष तरनि तचाइन के त्रासन तें,
सीतलाई सब तहखानन में ढली है ।
तजि तहखाने गई सर, सर तजि कंज,
कंज तजि चंदन-कपूर पूर पली है ॥
ग्वाल कवि ह्याँ तें चंद में ह्वै चाँदनी में गई,
चाँदनी तें सोरा मिले जल माँहि रली है ।
सोरा जल हूं ते धसी ओरा, फिर ओरा तजि,
बोराबोर ह्वै करि हिमाचल में गली है ॥

Leave a Reply