उम्र – धीरेन्द्र

गुस्ताख़ उम्र को कुछ यूं सजा दी है मैंने
भुलकर वो तारीख जिस दिन मैं जन्मा था
वो न बढती है अब ना कहती है कुछ मुझसे
बैखोफ़ जीता हूँ बस मुंह चिढ़ा कर उसको |

– धीरेन्द्र

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/09/2016

Leave a Reply