बरफ-सिलान की बिछायत बनाय करि

बरफ-सिलान की बिछायत बनाय करि,
सेज संदली पै कंज-दल पाटियतु है ।
गालिब गुलाब जल-जाल के फुहारे छूटें,
खूब खसखने पर गुलाब छाँटियतु है ॥
ग्वाल कवि सुंदर सुराही फेरि, सोरा में-
औरा कौ बनाय रस,प्यास डारियतु है ।
हिमकर-आननी हिवाला सी हिए तें लाय,
ग्रीषम की ज्वाला के कसाला काटियतु है ॥

Leave a Reply