झर झर झाँपै बड़े दर दर ढ़ाँपै नापै

झर झर झाँपै बड़े दर दर ढ़ाँपै नापै ,
तऊ काँपै थर थर बाजत बतीसी जाय ।
फेरि पसमीनन के चौहरे गलीचन पै ,
मखमली सौरि आछी सोऊ सरदी सी जाय ।
ग्वाल कवि कहै मृग मद के धुकाये धूम ,
ओढ़ि ओढ़ि छार भार आग हू छपी सी जाय ।
छाकै सुरा सीसाहू न सीसी पै मिटैगी कभू ,
जौँ लौ उकसी सी छाती छाती सो न मीसी जाय ।

Leave a Reply