चाहिए जरूर इनसानियत मानुस को

चाहिए जरूर इनसानियत मानुस को,
नौबत बजे वै फेर भेर बजनो कहा
जात और अजात कहा, हिन्दू औ मुसलमान
जाने कियो नेह, फेर, ताते भजनो कहा
‘ग्वाल कवि’ जाके लिए सीस पै बुराई लई
लाजहू गँवाई, कहो फेर लजनो कहा
या तो रंग काहू के न रंगिए सुजान प्यारे
रंगे तौ रंगोई रहै, फेर तजनो कहा।

Leave a Reply