हर लम्हा इस मन में इक तस्वीर यही तो सजती है

हर लम्हा इस मन में इक तस्वीर यही तो सजती है
तू बैठी है सीढ़ी पर, छज्जे से धूप उतरती है

एक सवेरा इक तन्हा तकिये पर आँखें मलता है
मीलों दूर कहीं इक छत पर सूनी शाम टहलती है

एक हवा अक्सर कंधे को छूती रहती “तू” बनकर
तेरी गंध लिये बारिश भी जब-तब आन बरसती है

हमने देखा है अक्सर हर पेड़ की ऊँची फुनगी पर
हिलती शाख तेरी नजरों से हमको देखा करती है

यादें तेरी, तेरी बातें साथ हैं मेरे हर पल यूँ
इस दूरी से लेकिन अब तो इक-इक साँस बिखरती है

सात समंदर पार इधर इस अनजानी-सी धरती पर
ज़िक्र से तेरे मेरी ग़ज़ल थोड़ी-सी और निखरती है

Leave a Reply