==* समशान नजर आता है *== (गजल)

जर्रा-जर्रा इस घर का समशान नजर आता है
दर-दिवार से आंगन सुनसान नजर आता है !

जी रहा हूँ मगर बेख़ौफ़ मैं रोज इस घर में
देख कर आईना दिल परेशान नजर आता है !

जाने पतझड़ सी लगे डाली क्यों खुशियों की
रूठा रूठा सा मुझको भगवान नजर आता हैं !

ना है कोई मंजिल और ना कुछ हासिल यहाँ
मेरे ही घर वजूद मेरा मेहमान नजर आता है !

गर मिला “एकांत” कभी इस घर के साये में
तो अपना भी कोई कदरदान नजर आता है !

रोज जीता है “शशि” क्यों डर के परछाई में
अपनें ही जिंदगी से वो हैरान नजर आता है !
———————//**–
शशिकांत शांडिले (एकांत), नागपुर
भ्र.९९७५९९५४५०
समशान नजर आता है गजल

6 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 30/08/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 30/08/2016
  3. babucm babucm 30/08/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 31/08/2016
  5. शशिकांत शांडिले एकांत 31/08/2016

Leave a Reply