पंचरत्न – बी पी शर्मा बिन्दु

ओउम्
निराकार
न दिखनेवाला साकार रूप
प्राणतत्व आत्मा वायु में निहित
प्रधान तत्व प्राणवायु
सुक्ष्म-ससक्त स्पन्दशील है।
ब्रम्हाण्ड़ की प्राण शक्ति
प्राणवन्त से
सजग-चर-अचर में क्रियाशील है।
सृष्टि के साथ.साथ जन्मा वायु
वायु से जल
और जलवायु से जनमी अग्नि
पोषक और नाशकमूल तत्व है।
मूल तत्व के साथ पंचरत्न
से बनी कयाकल्प प्राण ही आत्मा है।
ध्वनी समुह से शब्दों की रचना
दैव्य शक्तियों से प्राकृति का विस्तार
पारमाण्विक शक्ति
प्राचीन महर्षियों का उत्थान
लौकिक-पारलौकिकए आचार-विचार
सांसारिक प्रयोज्य
श्रद्धा-भक्ति की विशिष्ट श्रेणी उपासना है।
कामना के लिए उत्सर्जित
साधना
आध्यात्मिक कृत्यों
अकाट्य और अपरिहार्य
नियम सिद्धांत सत्य पर आधरित है।
निःदृष्ट नियमों का पालन सफलता का प्रतिक
ग्रह-नक्षत्र-तारे-चाॅद-सूरज-धरती-अंबर
वेद-पुराण-शास्त्रए समय चक्र का हिस्सा है।

Writer Bindeshwar Prasad Sharma (Bindu)
D/O Birth 10.10.1963
Shivpuri jamuni chack Barh RS Patna (Bihar)
Pin Code 803214

14 Comments

  1. शीतलेश थुल शीतलेश थुल 30/08/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 30/08/2016
  2. C.M. Sharma babucm 30/08/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 30/08/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 30/08/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/08/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 30/08/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 30/08/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma (bindu) 30/08/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 30/08/2016
  5. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 30/08/2016
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 30/08/2016

Leave a Reply